नॉलेज

Rajya Sabha Election: राज्यसभा चुनाव कैसे होते हैं?

हाल फिलहाल में आपने कभी ना कभी राज्य सभा के बारे में जरूर पढ़ा होगा की Rajya Sabha Election कंडक्ट किये जा रहे है. लेकिन क्या आप जानते है की Rajya Sabha Election process क्या है और Rajya Sabha Election में कौन भाग लेता है? आज के इस लेख में हम लोग जानेंगे की आखिर Rajya Sabha Election कैसे होता है और Rajya Sabha के election में कैंडिडेट के तौर पर कौन भाग ले सकता है?

Rajya Sabha का इतिहास क्या है?

ब्रिटिश समय में ही राज्यसभा यानी ऊपरी सदन का गठन किया गया था. तब इसे काउंसिल ऑफ स्टेट कहा जाता था. राज्यसभा में कुल 238 सदस्य चुने जाते हैं, जबकि राष्ट्रपति अधिकतम 12 सदस्य नॉमिनेट कर सकते हैं. इस तरह राज्यसभा में अधिकतम 250 सदस्य होते हैं. इनमें से हर 2 साल में एक तिहाई सदस्यों का कार्यकाल खत्म होता है, इसलिए उतनी सीटों के लिए चुनाव होते हैं. राज्यसभा के चुनाव की प्रक्रिया लोकसभा और विधानसभा चुनावों से अलग है, इसके सदस्य का कार्यकाल 6 साल होता है.

rajya sabha election process in hindi
rajya sabha election process hindi me

कौन बन सकता है Rajya Sabha सांसद?

राज्यसभा का सदस्य बनने के लिए किसी भी शख्स को भारतीय नागरिक होना जरूरी है. इसके साथ ही व्यक्ति का 30 साल का होना आवश्यक है. संविधान के अनुच्छेद 102 के अनुसार उम्मीदवार को दिवालिया और कुछ अन्य वर्ग के लोगों को राज्यसभा सदस्य बनने के लिए अयोग्य घोषित किया गया है. 

ये भी पढ़िए:- राष्ट्रपति चुनाव: राष्ट्रपति का चुनाव कैसे होता है ?

Rajya Sabha Election में वोट कौन डालता है?

आम चुनाव की तरह आम भारतीय Rajya Sabha Election में वोट नहीं डाल सकता. बल्कि इस चुनाव में आम आदमियों दुवारा चुने गये विधायक वोट डालते है. यानि की आप जिसको अपने क्षेत्र का विधायक चुनते है आपके behalf पर वही आपके लिए Rajya Sabha Election में वोट डालते है. इस तरह आप शामिल ना होते हुए भी इस चुनाव में शामिल रहते है और वोट भी डालते है.

Rajya Sabha Election का Process क्या है?

कैसे होता है राज्यसभा का चुनाव :- राज्यसभा चुनाव की वोटिंग का एक फॉर्मूला होता है. किसी राज्य में कितनी राज्यसभा सीटें खाली हैं, उसमें 1 जोड़ा जाता है, फिर उसे कुल विधानसभा सीटों की संख्या से भाग दिया जाता है. इससे जो संख्या आती है, उसमें फिर 1 जोड़ दिया जाता है.

ये भी पढ़िए:- क्या है नेशनल हेराल्ड केस, जिसने कांग्रेस की नाक में दम कर रखा है ?

मान लीजिए कि किसी प्रदेश में 11 राज्यसभा सीटों के लिए वोटिंग होनी है. इसमें 1 जोड़ा तो हो गया 12. मन की उस राज्य की विधानसभा सीटों की संख्या 403 है. अब 12 को 403 से भाग दिया तो संख्या आई 33.583333. जिसको 33 माना जाएगा. अब 33 में 1 को जोड़ा तो आया 34 यानी किसी भी उम्मीदवार को जीतने के लिए 34 वोटों की जरूरत होगी.

यहां यह भी गौर करने वाली बात है कि एक विधायक एक से अधिक वोट डाल सकता है. ऐसे में वह उम्मीदवार को उसके वरीयता क्रम के अनुसार वोट कर सकता है.

तो उम्मीद करते है की आपको rajya sabha election process समझ आ गया होगा यदि अभी भी आपका कोई सवाल या जवाबी है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर बता सकते है. rajya sabha election process in hindi पर कुछ सवाल जवाब निचे भी बताये गये है उनके बारे में भी जान लीजिये.

ये भी पढ़िए:- Super Computer क्या है और कैसे काम करता है?

Home Pageयहाँ क्लिक करें

Q:- राज्यसभा में कितने निर्वाचित और मनोनीत सदस्य होते हैं?

राज्यसभा में अधिकतम 250 सदस्य होते हैं. जिनमे 12 सदस्य भारत के राष्ट्रपति के द्वारा नामांकित होते हैं। इन्हें ‘नामित सदस्य’ कहा जाता है।

Q:-राज्य सभा के सदस्यों की अधिकतम संख्या कितनी हो सकती है?

उत्तर: दो सौ पचास (250), जिसमें से 238 सदस्य निर्वाचित किए जाते हैं और 12 सदस्य भारत के राष्ट्रपति द्वारा नाम-निर्देशित किए जाते हैं।

Q:-राज्य सभा के सदस्यों को शपथ कौन दिलाता है?

संविधान के अनुच्छेद 99 के अंतर्गत यह प्रावधान है कि संसद के प्रत्येक सदन का सदस्य अपना स्थान ग्रहण करने से पहले, राष्ट्रपति या उसके द्वारा इस कार्य के लिए नियुक्त व्यक्ति के समक्ष शपथ लेगा।

Q:- संसद के मनोनीत सदस्य कौन होते हैं?

वे सदस्य जो राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त किये जाते है उन्हें मनोनीत सदस्य कहते है। 12 सदस्य भारत के राष्ट्रपति के द्वारा नामांकित होते हैं.

Q:- भारत में राज्यसभा सीटों की संख्या कितनी है?

सदस्यता 250 सदस्यों तक सीमित है, और वर्तमान राज्यसभा में 245 सदस्य हैं। 233 सदस्यों को विधानसभा सदस्यों द्वारा चुना जाता है और 12 राष्ट्रपति द्वारा नामित किए जाते हैं।

Q:- राज्यसभा के सदस्यों का कार्यकाल क्या है?

हर 2 साल में एक तिहाई सदस्यों का कार्यकाल खत्म होता है, इसलिए उतनी सीटों के लिए चुनाव होते हैं. राज्यसभा के चुनाव की प्रक्रिया लोकसभा और विधानसभा चुनावों से अलग है, इसके सदस्य का कार्यकाल 6 साल होता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button